नवरात्री में भूलकर भी ये न करें!




navratri me ye kaam nahi karne chahiye

नवरात्रि के शुभ दिनों में भूलकर भी न करें ये काम, नवरात्री पर क्या करें क्या न करें, नवरात्री पर्व में क्या करें और क्या न करें, भूलकर भी नवरात्रिं में न करें ये काम, नवरात्रों में ध्यान रखने योग्य बातें, नवरात्री में इन कामो को करना है वर्जित, नवरात्र में भूलकर न करें ये गलतियां, महिलाएं भी रखें इन बातों का ध्यान, नवरात्रों में करने और न करने वाले कुछ काम, नवरात्री स्पेशल : क्या करें क्या न करें, नवरात्री में इन कामों को करने से हो सकती परेशानियां 

नवरात्री का पवन पर्व हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है जिसे सभी क्षेत्रों में बड़े हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। हर वर्ष चार नवरात्री आती है जिनमे से सबसे प्रमुख चैत्र और शरद नवरात्री मानी जाती है। जहां एक तरफ चैत्र नवरात्री को केवल कुछ ही क्षेत्रों में मनाया जाता है वहीं दूसरी तरफ शारद नवरात्री को पुरे देश में समान उत्साह के साथ मनाया जाता है।

उत्तरी भारत में शरद नवरात्री को बड़ी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। वहीं पश्चिम बंगाल की दुर्गा पूजा सबसे प्रमुख पर्व है। नौ दिनों तक चलने वाला यह पर्व शक्ति के नौ स्वरूपों – शैलपुत्री, बह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री को समर्पित है।

चूँकि इस पर्व में देवी की आराधना की जाती है तो इस दौरान स्वछता और सादगी का विशेष महत्व होता है। क्योंकि इस दौरान आप न केवल अपने मन को शुद्ध करते है अपितु अपनी अंतर आत्मा को भी शुद्ध करते है। ऐसे में नवरात्री के दौरान कुछ चीजों को वर्जित रखना जरुरी होता है। इसके साथ ही कुछ कार्य ऐसे भी है जिन्हे नवरात्री के दौरान नहीं करना चाहिए। आज हम आपको नवरात्री में क्या करें क्या न करें? के बारे में बताने जा रहे है।

नवरात्री में इन कार्यों को भूलकर भी न करें :-

1. नवरात्री के दौरान व्रत रखने वाले व्यक्ति या महिला को दाढ़ी-मूंछ व् बाल नहीं कटवाने चाहिए।

2. कलश स्थापना और अखंड ज्योति प्रज्वलित करने के बाद घर को खाली नहीं छोड़ना चाहिए। मंदिर के पास हमेशा कोई न कोई रहना चाहिए।

3. नौ दिनों तक पूर्ण सात्विक भोजन करना चाहिए। इस दौरान किसी भी तरह का नॉन वेज, लहसुन और प्याज आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।

4. उपवास करने वाले व्यक्ति को व्रत के खाने में अनाज का सेवन नहीं करना चाहिए। केवल फलाहार या फलो से बने पदार्थों का सेवन करना चाहिए।

5. विष्णु पुराण के अनुसार नवरात्री व्रत के दौरान दिन के समय (दोपहर) में नहीं सोना चाहिए।

6. उपवास रखने और नवरात्री के पुरे नौ दिन शराब आदि का सेवन पूर्ण वर्जित है। ऐसा करने से देवी रुष्ट हो सकती है।

7. व्रत के दौरान तम्बाकू का सेवन भी नहीं करना चाहिये। ऐसा करने से व्रत का फल नहीं मिलता।

8. व्रत के दौरान शारीरिक संबंध नहीं बनाने चाहिए। ऐसा करने से भी व्रत का फल नहीं मिलता।sex

9. महिलाओं को मासिक धर्म (पीरियड्स) के दौरान पूजन नहीं करना चाहिए।

10. मासिक धर्म के सात दिनों में देवी पूजन को वर्जित बताया गया है।

11. नवरात्री के नौ दिनों तक नाख़ून नहीं काटने चाहिए।

12. नौ दिनों तक व्रत रखने वाले व्यक्ति को काले कपडे नहीं पहनने चाहिए।

13. उपवास रखने वाले व्यक्तियों को बेल्ट, चमड़े से बनी किसी वस्तु का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

14. यदि घटस्थापना के बाद सूतक लग जाए तो कोई प्रभाव नहीं पड़ता लेकिन अगर कलश स्थापना से पहले ऐसा हो जाए तो पूजा आदि नहीं करनी चाहिए।

15. व्रत रखने वाले मनुष्य को जमीन पर सोना चाहिए।

नवरात्री में इन कामो को करना है शुभ :-

1. व्रत के दौरान कुटटु का आटा, समारी चावल, सिंघाड़े का आटा, सबुदाना, सेंधा नमक, फल, मेवे, मूंगफली आदि का सेवन किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त किसी भी अन्य चीज का सेवन नवरात्री व्रत में निषेध है।fruits

2. प्रातःकाल बह्ममुहूर्त में स्नान करके देवी माँ का पूजन करना चाहिए। सूर्योदय से पूर्व किये गए पूजन से देवी प्रसन्न होती है और आशीर्वाद देती है।

3. नौ देवियों को दिन के हिसाब से भोग लगाना चाहिए और पुरे विधि विधान के साथ पूजन करना चाहिए।

4. नौ देवियों के अनुसार उन्हें पुष्प चढाने चाहिए। इसे माता प्रसन्न होती है।

5. नौ दिनों में चौबीस हजार गायत्री मन्त्रों का जाप करना चाहिए।

6. तुलसी, चन्दन और रुद्राक्ष की माला का उपयोग करके जप करना चाहिए।

[Total: 5    Average: 4.2/5]
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *